सकारात्मक स्लोगन (4)

अतीत की यादों में 
उमड़ने-घुमड़ने से
कुछ हासिल नहीं होता है।
भविष्य के लिए सपने बुनों और
वर्तमान में प्रयत्नशील रहो।
शब्द एवं चित्र
श्रीमती रेणुका श्रीवास्तव

कोई टिप्पणी नहीं: