सकारात्मक स्लोगन(21)

आजकल। जिंदगी बहुत खामोश सी हो गई है
अपनों की पहचान, बेवजह नासूर बन गई है,
 पर
जो जिंदगी में हंसते-मुस्कुराते और गुनगुनाते है
जिंदगी का राग वहीं सुनाते व समझ पाते है
वही रुठी हुई जिंदगी में रागिनी भर अलापते है।

      शब्द एवं चित्र 
      श्रीमती  रेणुका श्रीवास्तव 
#hindiquotescollection #renukasrivastava #phulkari #gulistansahitya #renuka #lucknow #hindi writer #hindipoem #lifestyle #motivationalquotes #motivation

कोई टिप्पणी नहीं: