होली का त्यौहार (बाल कविता)

होली के हर्षित बेला में,
मन रंगों से सराबोर हो।
झूम उठे अम्बर धरा,
बहती सतरंगी धारा हो।

छायें खुशियों का बहार,
हर्षित सारा परिवार हो।
मिले मित्रों की टोलियाँ,
पड़ोसियों संग खेलो होली।

गिले-शिकवे सब दूर हो,
मन में तरंग अपार हो।
मस्ती के धुमधाम में,
झूमती होली का त्यौहार हो।

No comments:

शंखनाद (कविता)