नव वर्ष की शुभकामना (कविता)

नववर्ष के आगमन पर  जीने का सार, जिसे संकल्प बनाकर 
जिंदगी में खरे उतरने का शुभ संदेश -------

नई  और  सकारात्मक  सोच से,
नव  वर्ष   का  आह्वान    करो ।
तुम  बढ़ो  ,छोटे  भाई-बहन बढ़े,
नई   दिशा   का   आगाज    हो।
जिस   दिशा   में    बढ़ोगे   तुम,
वहीं   तुम्हारी    मंजिल    होगी ।
सूझबूझ   और  समझदारी    से,
अपनी मंजिल का निर्माण करो ।
मंजिल   तुम्हारी  खूबसूरत   हो,
यही   बड़ो  की  अभिलाषा  है ।
नव     वर्ष     मंगलमय       हो,
यही   शुभकामना  हमारी   है ।
       

No comments:

शंखनाद (कविता)