मीठी बोली (बाल कविता)

कौवे की कर्कश कांव-कांव,
नहीं किसी को, रास आती है।
ऐसे ही कठोर वाणी को,
जब तुम किसी से बोलोगे।
नहीं बनेगा, कोई संगी-साथी,
अपने भी तुमसे कतरायेंगे।

कोयल की मधुर कुहू-कुहू,
सबके मन को भाती है।
ऐसे ही मीठी वाणी को,
जब तुम भी अपनाओंगे।
सबके प्रिय बन जाओगे,
राजदुलारे ही कहलाओंगे।

No comments:

शंखनाद (कविता)